Akbar birbal a myth

​The so called “Akbar-Birbal” stories are actually one of the biggest propaganda of the so called “Secular” Congress party. 

Neither was Birbal such a witty minister, nor were there such witty anecdotes from the Mughal Durbar. 
In fact, all those were actually from the Vijayanagar Empire, and those were “Tenali Rama” anecdotes. The educational committees set-up by Congress simply ripped-off all the stories of Tenali Rama which took place in the court of Maharaja Krishnadevaraya, and presented them as “Akbar-Birbal” stories. 
Now you might wonder, if those stories were indeed true, but instead of Mughal Empire, if those happened in Vijayanagar Empire, then why not teach about Tenali Rama & Vijayanagar itself? Sounds logical, but it is against “Secularism” because if children are taught stories of Tenali Rama, then they will try to find out more about him. They will find out that he was from Vijayanagar Empire. Naturally, the next quest out of curiosity, would be to find out more about Vijayanagar Empire, and that’s exactly what the Seculars want to avoid. Because the moment children find out about Vijayanagar Empire, then they will realize the rich & glorious history of our land, and will automatically know about the Islamic invasions, the brutal killings (massacres) of thousands & lakhs of Hindus, the gruesome demolitions of temples of Hampi and the total ruthless destruction of an entire empire which epitomized Hinduism in all its glory. 
When they try to find out why lakhs of innocents were massacred & an entire kingdom was destroyed, then they will automatically find out that it is because the particular “holy book” says so. It says that all those who do not believe in the book (Kafirs) should be destroyed. 
And this way, the hollowness of the “peaceful” religion will be completely exposed. Then, there will be calls for “reform”. There will be widespread demand for UCC. And so on. But calling for any kind of reform of “peaceful” religion is against secularism. 
Hence, the best thing is to bury real history altogether, present a “whitewashed, secular” history and portray terrorists as saviors. Bury the history of Tenali Rama & Krishnadevaraya, and instead, present Akbar-Birbal, portray the Mughal Badshahs as role model Kings, and present terrorists like Aurangzeb as the most secular ruler. Portray “peaceful” religion as an innocent minority, and as a victim, so that an entire generation of youngsters turn into “liberals” (In fact, I know several youngsters who call themselves liberals, and they actually sympathize even with terrorists like Burhan Wani, calling such terrorists as just  “misguided youth”). These liberals go on to become “foot soldiers” of “liberalism”, who will then enthusiastically & relentlessly fight against “communalism”, label anybody who narrates true history, as an “insensitive”, “bigoted”, “communal” etc. 
To know more about Congress Party’s Cunning “Secular Strategies” to distort true history, read the following article by SL Bhyrappa:

Advertisements
Posted in Uncategorized | Leave a comment

Why do we ring the bell in Temple

​Why do we ring the bell in a temple?
Is it to wake up the Deity ? But the Swami/Swamini never sleeps. Is it to let Him know that we have come? He does not need to be told. Is it a form of seeking permission to enter His precinct? It is a homecoming and therefore entry needs no permission. He welcomes us all the times. Then why do we ring the bell?
The ringing of the bell produces what is regarded as an auspicious sound. It produces the sound Om, the universal Name. There should be auspiciousness within and without, to gain the vision of Who is all-auspicious.
Even while doing the ritualistic aarati, we ring the bell. It is sometimes accompanied by the auspicious sounds of the conch and other musical instruments. An added significance of ringing the bell, conch and other instruments is that they help drowned any inauspicious or irrelevant noises and comments that might disturb or distract the worshippers in their devotional ardour, concentration and inner peace. As we start the daily ritualistic worship (pooja) we ring the bell, chanting:
Aagamaarthamtu devaanaam gamanaarthamtu rakshasaam Kurve ghantaaravam tatra devataahvaahna lakshanam
I ring this bell indicating the invocation of divinity, So that virtuous and noble forces enter (my home and heart); and the demonic and evil forces from within and without, depart.

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Why there is a gap between Dussehra & Diwali

​Rama attended the funeral rites for Ravana, crowned Vibheeshana and returned to Ayodhya via ALL the spots he stopped while looking for Seetamma. THE ENTIRE ARMY CAME BACK VIA VIMANA. Sree Rama greeted his brothers, and the preparation for the coronation took a few more days. This is what caused the gap between Ravana’s death and the Pattabhishekam.

The bridge was not used for coming back.

Seeta was given an opportunity to thank all the key people who helped Sree Rama and pay respects to those who passed. Jatayu and Kabandha

The vimana was supplied by Vibheeshana. He got it as Ravana had it. Ravana had usurped it from Kubera.
There were not too many vimanas like ancient alien theory. Ravana stole the rare one from kubera. Infact rama did not even retain it. Vibhishana takes the family  idol given by rama on his way back.

Vibheeshana. He got it as Ravana had it. Ravana had usurped it from Kubera.

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Attack on Hinduism -2

​*कश्मीर में तांडव मचा है!*

*लेकिन न ही अवार्ड वापसी हुई;*

*न किसी की बीवी की देश छोड़कर जाने की इच्छा हुई!*

*हद है दोगलेपन की!*
*वहां भारतीय फौज एक “आतंकवादी” का एनकाउंटर करती है और, और कश्मीर की जनता हमारी फौज को दौडा दौडा कर पत्थर मारती है!*
*आज की घटना:*
 *भूतपूर्व सरकार का हर नेता चुप!*
*दिल्ली का हाहाकारी मुख्यमंन्त्री चुप!*
*काँग्रेस के सारे बुद्धिजीवी चुप!*
*संघ-मुक्त भारत करने की इच्छा रखने वाले चुप!*
*एन डी टी वी चैनल चुप!*
*ए बी पी चैनल चुप!*
*इन्डिया टीवी चुप!*
*न्यूज 24 वाले चुप!*
*पत्रकार चुप!*
*साहित्यकार चुप!*
*फिल्मकार चुप!*
*आमिर खान चुप!*
*सलमान खान चुप!*
*पाकिस्तान को करोड़ों रूपए भेजने वाला शाहरूख खान चुप!*
*असिहष्णुता का ढिढोरा पिटने वाले चुप!*

*आप चुप!*
*हम चुप!*
*सारा देश है चुप-चाप! क्यों? क्यों? क्यों ?धिक्कार है इन सब पर! लानत भेजता हू मै इन सब पर!*
*क्यों हम यह भूल गये कि यह वही फ़ौजी जवान है जिन्होंने पिछले बरस बाढ से पीड़ित अलगाववादी काश्मीरियो को अपनी जान पर खेलकर बचाया था!*
*और तो और, इन्हीं कमीनो के लिये पिछले साल हर एक फौजी ने अपनी एक दिन की सैलरी दी थी बाढ़ राहत कोष में!*
*अगर सच मे हम मे हिन्दुस्तानी होने का जरा भी एहसास बचा है तो करो इस पोस्ट को शेयर!*
*कब तक चुप रहेंगे हम?*
*क्या सिर्फ good morning    और good  night और फालतू की शेर शायरी पोस्ट करते रहेंगे ?*
*अरे भाई अब  जागो!कुछ तो बोलो चुप्पी तोड़ो! और सराहो हिंदुस्तानी फ़ौज़ के बहादुरी भरी कारनामों पर!*
*भारत माता की जय!*🇮🇳

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Attack on Hinduism

​ईदच्या दिवशी सुमारे *१२ करोड बकरे कापले गेले.*
या १२ करोड बकऱ्यांचे *३० करोड लिटर रक्त विनाकारण सांडले.*
सांडलेले *रक्त साफ करायला ९० करोड लिटर पाणी बरबाद झाले.*
आहे कोणत्या मीडियामध्ये दम हे विदारक सत्य दाखविण्याचा.*
*पाणी फक्त होळीच्या सणाला वाया जाते* कारण होळी हिंदू खेळतात ना.
तुम्ही या विचारही सहमत असाल तर नक्की पुढे पाठवा.
*मीडियाचे दलाल वाचतील एव्हढा फार्वर्ड करा.*

Posted in Uncategorized | Leave a comment

How to use peacock feather *Morpankh* for maximum benefit

​🌷 *गणेश चतुर्थी* 🌷
🙏🏻 मोर पंख सिर्फ भगवान श्रीकृष्ण को नहीं, बल्कि सभी देवी–देवताओं को प्रिय है। इसमें नौ ग्रहों का निवास भी माना गया है। ज्योतिषी शास्त्र से जुड़े कुछ खास उपायों को गणेश चतुर्थी पर किया जाए तो पैसों के साथ ही जीवन की अन्य कई तरह की समस्याओं को दूर किया जा सकता है। आइए जानते हैं मोर पंख से जुड़े कुछ बहुत आसान उपाय….

👉🏻 गणेश चतुर्थी को सिर्फ 1 मोर पंख के ये उपाय बदल सकते हैं भाग्य

🌷 *कारगर उपाय* 🌷

आपका भाग्य बदल सकता है गणेश जी को चढ़ाया हुआ एक मोरपंख

🌿 *पैसों से जुड़ी प्राॅब्लम*

जिन लोगों को पैसों की कमी रहती है वे पर्स में ये मोर पंख रखें।

🌿 *रुके हुए काम होंगे पूरे*

इस मोर पंख को हमेशा साथ रखने पर रुके हुए काम पूरे होने लगते हैं।

🌿  *बच्चा जिद्दी हो तो*

उस बच्चे के सिर से पैर तक ये मोर पंख फिरा दें। फायदा होगा।

🌿 *डरावने सपने आते हों तो*

रात में डरावने सपने आते हों तो मोर पंख को सिरहाने रखकर सोएं।

🌿 *नकारात्मक शक्ति*

मोर पंख को धर के किसी ऐसी जगह पर रखें जहां से वो दिखाई दे तो नकारात्मकता दूर होगी।

🌿 *बरकत के लिए*

साउथ ईस्ट में इस मोर पंख को रखने से धर में हमेशा बरकत रहेगी।

🌿 *किताब में मोर पंख*

इस मोर पंख को स्टूडेंट अपनी किताब में रखें तो पढ़ाई में मन लगने लगेगा।

🌿 *यदि वास्तुदोष हो तो*

यदि मुख्य द्वार दोष में हो तो दरवाजे के उपर तीन मोर पंख लगाएं।

🌿 *शत्रु परेशान कर रहा हो तो*

मंगलवार को मोर पंख पर हनुमानजी के मस्तक सिंदुर से शत्रु का नाम लिखे।रात भर मोर पंख को देवस्थान पर रखें व सुबह बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें।

          🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🙏🏻🌷🌻🍀🌹🌼🌺🌸💐🙏🏻

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Remedy if accidentally watched Moon of Chaturthi

​🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞

⛅ आज का दिनाँक – 04 सितम्बर  2016

⛅ दिन – रविवार 

⛅ विक्रम संवत – 2073

⛅ शक संवत -1938

⛅ अयन – दक्षिणायन

⛅ ऋतु – शरद

⛅ मास – भाद्रपद

⛅ पक्ष – शुक्ल  

⛅ तिथि – शाम 06:54 तक तृतीया – शाम 06:55 से  चतुर्थी  

⛅ नक्षत्र – हस्त

⛅ योग – शुभ 

⛅ राहुकाल – शाम 05:15 से शाम 06:48 तक 

⛅ दिशाशूल – पश्चिम दिशा में

🌥व्रत-पर्व विवरण -हरितालिका-केवड़ा तीज, वराह जयंती, संत चरणदास जयंती ( तिथि अनुसार)

💥 *विशेष*-  तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है।

💥 चतुर्थी को मूली खाने से धन का नाश होता है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

💥 रविवार के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)

💥 रविवार के दिन मसूर की दाल, अदरक और लाल रंग का साग नहीं खाना चाहिए।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75.90)

💥 रविवार के दिन काँसे के पात्र में भोजन नहीं करना चाहिए।

(ब्रह्मवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75)

💥 स्कंद पुराण के अनुसार रविवार के दिन बिल्ववृक्ष का पूजन करना चाहिए। इससे ब्रह्महत्या आदि महापाप भी नष्ट हो जाते हैं।

         🌞 ~ *हिन्दू पंचांग* ~ 🌞
🌷 *गणेश-कलंक चतुर्थी* 🌷

➡ 5 सितम्बर 2016 सोमवार को चन्द्रदर्शन निषिद्ध ( चन्द्रास्त : रात्रि ९-३३ )                                    🙏🏻 ( ‘ॐ गं गणपतये नम:’ मंत्र का जप करने और गुड़मिश्रित जल से गणेशजी को स्नान कराने एवं दूर्वा व सिंदूर की आहुति देने से विघ्न-निवारण होता है तथा मेधाशक्ति बढ़ती है | )

🙏🏻 स्त्रोत : ऋषि प्रसाद – अगस्त २०१६ से

         🌞 ~ *हिन्दू पंचांग* ~ 🌞
🌷 *गणेश चतुर्थी पर चंद्र दर्शन कलंक निवारण के उपाय*

➡ 5 सितम्बर 2016 सोमवार को चन्द्रदर्शन निषिद्ध ( चन्द्रास्त : रात्रि ९-३३ )

🙏🏻 भारतीय शास्त्रों में गणेश चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन निषेध माना गया हैं इस दिन चंद्र दर्शन करने से व्यक्ति को एक साल में मिथ्या कलंक लगता हैं। भगवान श्री कृष्ण को भी चंद्र दर्शन का मिथ्या कलंक लगने के प्रमाण हमारे शास्त्रों में विस्तार से वर्णित हैं।

🌷 *भाद्रशुक्लचतुथ्र्यायो ज्ञानतोऽज्ञानतोऽपिवा।*

*अभिशापीभवेच्चन्द्रदर्शनाद्भृशदु:खभाग्॥*

🙏🏻 अर्थातः जो जानबूझ कर अथवा अनजाने में ही भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी को चंद्रमा का दर्शन करेगा, वह अभिशप्त होगा। उसे बहुत दुःख उठाना पडेगा।

🙏🏻 गणेश पुराण के अनुसार भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी के दिन चंद्रमा देख लेने पर कलंक अवश्य लगता हैं। ऐसा गणेश जी का वचन हैं।

🙏🏻 भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन न करें यदि भूल से चंद्र दर्शन हो जाये तो उसके निवारण के निमित्त श्रीमद्‌भागवत के १०वें स्कंध, ५६-५७वें अध्याय में उल्लेखित स्यमंतक मणि की चोरी कि कथा का का श्रवण करना लाभकारक हैं। जिससेे चंद्रमा के दर्शन से होने वाले मिथ्या कलंक का ज्यादा खतरा नहीं होगा।

🌷 *चंद्र-दर्शन दोष निवारण हेतु मंत्र* 🌷

🙏🏻 यदि अनिच्छा से चंद्र-दर्शन हो जाये तो व्यक्ति को निम्न मंत्र से पवित्र किया हुआ जल ग्रहण करना चाहिये। मंत्र का २१, ५४ या १०८ बार जप करे। ऐसा करने से वह तत्काल शुद्ध हो निष्कलंक बना रहता हैं। मंत्र निम्न है

🌷 *सिंहः प्रसेनमवधीत्‌ , सिंहो जाम्बवता हतः।*

*सुकुमारक मा रोदीस्तव, ह्येष स्यमन्तकः ॥*

🙏🏻 अर्थात: सुंदर सलोने कुमार! इस मणि के लिये सिंह ने प्रसेन को मारा हैं और जाम्बवान ने उस सिंह का संहार किया हैं, अतः तुम रोऒ मत। अब इस स्यमंतक मणि पर तुम्हारा ही अधिकार हैं।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, अध्यायः ७८)

🙏🏻 चौथ के चन्द्रदर्शन से कलंक लगता है | इस मंत्र-प्रयोग अथवा स्यमन्तक मणि कथा के वचन या श्रवण से उसका प्रभाव कम हो जाता है |

🙏🏻 – ऋषि प्रसाद अगस्त २००६ से

          🌞 ~ *हिन्दू पंचांग* ~ 🌞

🙏🏻🌷🌻🌹🍀🌺🌸🍁💐🙏🏻

Posted in Uncategorized | Leave a comment